IAS Chandrajyoti UPSC Success Story Know Tips


UPSC Success Story: यूपीएससी की परीक्षा (UPSC Exam) पास कर आईएएस बनने का सपना हर एक अभ्यर्थी संजोता है. इसमें से कुछ को जल्दी सफलता मिल जाती है तो कुछ सफलता न मिलने पर धैर्य को देते हैं और टूट जाते हैं. लेकिन जो धैर्य बनाए रखते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं उन्हें सफलता जरूर मिलती है. आज हम आपको इस चंद्रज्योति की कहानी बताने जा रहे हैं जो  22 साल में ही आईएएस बन गई थीं.

चंद्रज्योति के पिता आर्मी मैन थे. आर्मी ऑफिसर होने की वजह से उनके पिता की कई राज्यों में पोस्टिंग रही थी.लिहाजा उनकी स्कूलिंग भी कई राज्यों में हुई. घर परिवार में बहुत ही अनुशासन था, अनुशासन की वजह से ही उनकी पढ़ाई भी काफी अच्छी रही. 12वीं पास करने के बाद चंद्रज्योति ने हिस्ट्री ऑनर्स की डिग्री दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेज सेंट स्टीफेंस से ली. इसके बाद उन्होंने ब्रेक लिया ताकि वह यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी कर सकें.तैयारी की शुरुआत में उन्होंने करंट अफेयर्स और जनरल नॉलेज पर अधिक फोकस रखा.

मॉक टेस्ट की ली मदद

यूपीएससी की पहली परीक्षा में ऑल इंडिया में 28 स्थान पाने वाली चंद्रज्योति यूपीएससी की परीक्षा के शुरुआती दौर में 6 से 8 घंटे पढ़ाई किया करती थी. परीक्षा के नजदीक आने पर वह पढ़ाई को और अधिक समय देती थी. परीक्षा तैयारी को चेक करने के लिए मॉक टेस्ट किया करती थी. अपनी तैयारी को और सुदृण बनने के लिए उन्होंने टेस्ट सीरीज भी ली.

अगस्त 2020 से अक्टूबर 2022 तक चंद्रज्योति ने ऑफिसर ट्रेनिंग मसूरी में की. इसके बाद 4 महीने तक वह विदेश मंत्रालय में सहायक सहायक सचिव के पद पर तैनात रही.अक्टूबर 2022 में चंद्र ज्योति सिंह सुल्तानपुर लोधी में सब डिविजनल मजिस्ट्रेट के रूप में पंजाब सरकार में शामिल हुई.

यह भी पढ़ें- Jobs 2023: दिल्ली में जल्द होगी 10 हजार से ज्यादा होमगार्ड पदों पर भर्ती, ऐसे मिलेगी नौकरी

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

Leave a Comment